भाभी संग रंगरलियाँ

नमस्कार पाठको, कैसे हैं आप सभी ? मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और चुदाई के मजे जरुर ले रहे होंगे | आप सभी को इस प्यारी पिंकी की चूत की तरफ से प्यार भरा नमस्कार | मेरा नाम पिंकी है और मैं पटना की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 22 साल है और हाल ही मेरे कॉलेज की पढाई कम्पलीट हुई है | मैं दिखने में सांवली हूँ लेकिन दिखती सुन्दर हूँ | मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच है और मेरे बोबो का साइज़ 32D है और मेरी कमर 32 है और मेरे चूतड़ 36 के हैं | आप लोग खुद अंदाजा लगा सकते हैं कि मैं दिखने में कैसे हूँगी | दोस्तों मैं इस साईट की दैनिक पाठक हूँ और मुझे इस साईट की कहानियां पढ़ना बेहद पसंद है क्यूंकि इसमें पोस्ट होने वाली जितनी भी कहानियां है सभी बहुत बड़ी होती हैं इस लिए एक से ही मन भर जाता है | आज जो मैं आप लोगो के समक्ष अपनी कहानी पेश करने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी कहानी अच्छी लगेगी | तो मैं अपनी कहानी शुरू करने जा रही हूँ तो सभी अपने लंड और अपनी चूत को संभाल के रखे कहीं पानी न छोड़ दे |

ये घटना हाल की ही है | मेरे घर में हम तीन बहने मम्मी पापा के साथ रहती हैं | मेरी बड़ी बहन सीमा जॉब करती हैं और मैंने हाल ही में अपने कॉलेज की पढाई पूरी की है बस जॉब करना है | छोटी बहन रेखा अभी कॉलेज के फर्स्ट ईयर में हैं | पापा दिल्ली में जॉब करते हैं और मम्मी हाउसवाइफ हैं | मैं शुरू से ही चंचल स्वभाव की रही हूँ और मुझे हर नयी चीज़ को पाने की बहुत इच्छा रहती है वो बात अलग है कि मिलती नहीं जैसे मैं एक लड़के से प्यार करती थी जिसका नाम निस्सू है और वो दिखने में काफी हेंडसम भी था लेकिन उसे मेरे प्यार की कद्र नहीं थी और साले ने किसी और को पटा लिया | मैं एक दम अकेले थी तब मेरा हाँथ थामा मेरी एक दोस्त ने जिसका नाम रूपवती है और वो आज भी मेरी दोस्त है लेकिन उसके पापा का ट्रान्सफर किसी और सिटी में हो गया है जिस वजह से हम अब नहीं मिल पाते | खैर, मेरे पड़ोस में एक भाभी रहती हैं जिसका नाम अलका है और वो एक बच्चे की माँ है | वो दिखने में काफी सुन्दर भी हैं और उनका बदन तो जैसे तराशा गया हो ऐसा लगता है | भाभी नेचर के हिसाब से भी बहुत अच्छी हैं और मेरी उनसे काफी पटती है | भाभी के घर अक्सर मेरा आना जाना लगा रहता हैं क्यूंकि हम दोनों बेस्ट फ्रेंड जो बन चुके है |

Chudai ki kahaniya  बुर की प्यास ने लेस्बियन बनाया

भाभी बहुत चुदासी भी हैं क्यूंकि वो मुझे अपनी हार बात बताती हैं कि जब वो घर में अकेले रहती हैं तो वो ब्लू फिल्म देखती हैं और अपनी चूत में कभी गाजर तो कभी मूली तो कभी कुछ डाल कर अपनी चूत को आराम देती हैं | भाभी के पति को कभी कभी काम के सिलसिले में कुछ दिनों के लिए बाहर भी जाना पड़ता है और महीने में उनकी दो ट्रिप तो जरुर रहती हैं | एक दिन की बात है मैं और भाभी अकेले थे और चीकू ( भाभी का बेटा ) स्कूल गया हुआ था | भाभी ने मुझसे पूछा कि तू मेरे साथ चुदाई करेगी ? तो मैंने कहा नहीं भाभी मैं अभी इसके लिए तैयार नहीं हूँ | ये सुन कर भाभी को बुरा तो लगा पर मैं सच में इसके लिए रेडी नही थी | घर आने के बाद रात में मैं यही सब सोचती रही और सोचते सोचते मेरी चूत भीग गई तब मैं समझ गई कि भाभी की इच्छा को पूरा कर ही देती हूँ | अगले दिन सुबह नाश्ता करने के बाद मैंने भाभी के घर गई |

भाभी उस समय एक दम अकेली थी और मैं उनके घर गई | भाभी मुझे देख कर खुश हो गई और पूछने लगी कि अरे पिंकी कैसे आना हुआ ? तो मैंने कहा भाभी आपकी कल वाली बात पर मैंने गौर किया और मैं इस नतीजे पर पंहुची कि आपके साथ प्यार करने में कार्फी मजा आएगा | भाभी उस समय कपडे धो रही थी और फिर अपने हाँथ धो कर मेरे पास आई और मेरे बालो को सँवारने लगी | मैंने भाभी से से कहा कि भाभी मैं आपको किस करना चाहती हूँ तो भाभी ने अपने आँखो को बंद कर लिया और कहा कर लो | फिर मैंने भाभी के चेहरे को पकड़ा और उनके होंठ पर अपने होंठ रख दिया और उनके होंठ को चूसने लगी तो भाभी भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं भाभी के होंठ को चूसते हुए उनके दूध भी दबा रही थी और भाभी भी मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे दूध दबा रही थी | हम दोनों ने काफी देर तक किया और फिर भाभी ने कहा कि चल मेरे कमरे में | फिर हम भाभी के कमरे में गए तब भाभी ने मेरे टॉप को निकाल कर अलग कर दिया और अब मेरे जीन्स को भी उतार दिया | अब मैं उनके सामने बस ब्रा और पेंटी में थी | भाभी मेरे मम्मों को अपने हाँथ से मसलने लगी तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की प्यार भरी सिस्करियाँ निकलने लगी | फिर कुछ देर बाद भाभी ने मेरे ब्रा को भी उतार कर अलग कर दी और अब मैं ऊपर से पूरी नंगी थी |

Chudai ki kahaniya  गाजियाबाद वाली दोस्त

फिर भाभी मेरे एक दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और दुसरे को दबाने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | फिर भाभी मेरे दूसरे दूध को पीने लगी और पहले वाले को मसलने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए भाभी के सिर को अपने बोबो पर दबाने लगी | उसके बाद भाभी मेरे दोनों निप्पलस को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मदहोश होने लगी | उसके बाद भाभी ने मुझे पलंग पर लेटा दिया और मेरी पेंटी को निकाल कर मेरी जांघो पर पप्पियाँ देने लगी | उसके बाद भाभी ने मेरी चूत पर हाँथ फेरा और अपने मुंह को मेरी चूत से सटा कर जीभ से चाटने लगी तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते उए मचलने लगी | भाभी मेरी चूत को चाटते हुए मेरे दूध को भी मसल रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी | उसके बाद भाभी ने भी अपने पूरे कपडे उतार दिए और मेरे सामने नंगी खड़ी हो गई तो मैंने उनके दोनों दूध को अपने मुंह में लिया और चूसने लगी मसलते हुए तो भाभी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेरते हुए मुझे अपने दूध पिलाने लगी |

Chudai ki kahaniya  पर्सनालिटी डेवलपमेंट के बहाने मुझे छेड़ा

मैं भाभी के दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रही थी और एक हाँथ से उनकी चूत भी सहला रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | फिर भाभी अपनी दोनों टांगो को उठा कर पलंग पर लेट गई और अब मेरी बारी थी उनकी चूत चाटने की | फिर मैंने उनकी चूत को चाटना चालू किया तो भाभी ने आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए पहली बार में ही अपना रस मेरे मुंह में ही छोड़ दिया जिसे मैं अमृत समझ कर पी गई | मैं और भाभी एक दुसरे की टांगो के बीच में आ गए और अपनी चूत से चूत लड़ा कर रगड़ने लगे और दोनों साथ में आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां ले रहे थे | हम दोनों जोर जोर से एक दुसरे की चूत को चूत से रगड़ रहे थे और एक एक हाँथ से अपने अपने दूध भी मसल रहे थे और आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मैं और भाभी दोनों झड़ गए और वहीँ लेट गए | भाभी ने मुझसे पूछा कैसा लगा ? तो मैंने कहा भाभी आज से ज्यादा मजा कभी नहीं आया मुझे |

तो ये थी मेरी प्यारी सी कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी को मेरी कहानी जरुर अच्छी लगी होगी और कुछ ने तो इसे पढ़ कर अपना रस भी छोड़ दिया होगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *